सिस्टम क्लीन करना हमारा मकसद

हमसे भी गलती हो सकती है, अगर ऐसा हुआ है तो उसे दुरुस्त करेंगे

gyaneshwar singh

मुंबई

क्रूज ड्रग्स केस में स्वतंत्र गवाह रहे प्रभाकर सइल के 25 करोड़ की रिश्वतखोरी का आरोप लगाने के बाद इस केस में NCB की विजिलेंस टीम की एंट्री हो गई । प्रभाकर ने कुछ स्वतंत्र गवाहों और NCB के अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। एनसीबी के उप महानिदेशक ज्ञानेश्वर सिंह के नेतृत्व में जांच कर रही 7 सदस्यों की टीम जल्द NCB मुख्यालय को एक डिटेल्ड रिपोर्ट सौंपेगी।

इस रिपोर्ट से पहले NCB की विजिलेंस टीम प्रेस कॉन्फ्रेस कर अब तक हुई जांच के बारे में पत्रकारों से बता की। इसमें डिप्टी डायरेक्टर जनरल ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा कि हमें सिस्टम क्लीन करना है। हमसे भी गलती हो सकती है। अगर हमसे गलती हुई है तो उसे दुरुस्त करेंगे। कोई डिपार्टमेंट फुलप्रूफ नहीं होता है। उन्होंने कहा कि समीर वानखेड़े को भी पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। एफिडेविट में गवाह के नाम के अलावा NCB ऑफिसर्स भी रडार पर हो सकते हैं।

DDG ने क्या-क्या बताया...

इस मामले में कई अहम गवाह शामिल होने हैं। उसके बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचेंगे। मामले में आरोपी गोसावी से पूछताछ की गई है। सोमवार को उसकी कोर्ट में सुनवाई है। प्रभाकर से भी दो दिन तक पूछताछ की गई है। अभी डेटा, रिकॉर्ड और गवाह का ऐनालिसिस हो रहा है। शाहरुख खान की मैनेजर पूजा ददलानी से अब तक पूछताछ नहीं की गई है। अगर जरूरत पड़ी तो उनसे भी पूछताछ करेंगे।

आरोपियों के बैंक खाते भी खंगाले जाएंगे। अब तक 15 लोगों के बयान दर्ज किए गए हैं। हम सैम डिसूजा के भी संपर्क में हैं, हालांकि अभी उनके बारे में कुछ नहीं कहूंगा।

  रिश्वतखोरी का आरोप लगाने वाले प्रभाकर सइल ने आरोप लगाया था कि NCB ऑफिस में उसने किरण गोसावी को शाहरुख के स्टाफ से 25 करोड़ की डील करते हुए सुना था। यह डील 18 करोड़ में फाइनल हुई थी। इसके बाद शाहरुख के स्टाफ की ओर से 50 लाख रुपए भेजे भी गए थे। हालांकि, वह डील फाइनल नहीं हो सकी। प्रभाकर ने इस डील में सैम डिसूजा को भी अहम किरदार कहा था। हालंकि, NCB की विजलेंस विंग आर्यन खान, शाहरुख की मैनेजर पूजा ददलानी और इस केस के सबसे विवादित चेहरे किरण गोसावी से पूछताछ नहीं की है।

टीम ने कुछ दिन पहले नवाब मलिक के दामाद समीर खान केस के आईओ आशीष रंजन से दिल्ली हेडक्वार्टर में लगातार 2 दिन की पूछताछ में लगभग 200 से ज्यादा सवाल पूछे थे। सारे सवाल समीर वानखेड़े और उनकी जांच के बारे में ही पूछे गए थे। वहीं, आर्यन केस में आईओ रहे वीवी सिंह का बयान भी दर्ज किया गया है। उनके क्रूज में ड्रग पार्टी की जानकारी होने से लेकर वसूली के आरोपों पर सवाल किए गए थे।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget