भाजपा करेगी 'जेल भरो आंदोलन'

फड़नवीस ने राज्‍य सरकार को चेताया,  कहा-तत्‍काल बंद हो पुलिस की एकतरफा कार्रवाई

fadanvis

मुंबई

रविवार को अमरावती दौरे पर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि अमरावती और महाराष्ट्र के कुछ अन्य शहरों में हाल की हिंसक घटनाएं एक साजिश थी। इसका मकसद राज्य में जानबूझकर अशांति पैदा करना था। उन्होंने कहा कि हिंसा के बाद भाजपा और हिंदू संगठनों के खिलाफ पुलिस की एकतरफा कार्रवाई तत्काल बंद होनी चाहिए, अन्यथा भाजपा जेल भरो आंदोलन शुरू करेगी।

12 नवंबर की घटना की अनदेखी

फड़नवीस ने यह आरोप भी लगाया कि महाराष्ट्र सरकार 12 नवंबर की हिंसक घटना की अनदेखी कर रही है। इसके बदले वह सिर्फ इसके अगले दिन हुई प्रतिक्रिया पर अपना ध्यान दे रही है। फड़नवीस ने रविवार को अमरावती के मसानगंज और हनुमाननगर इलाकों का दौरा किया और अस्पताल जाकर हिंसा में घायल लोगों से मुलाकात की। उल्लेखनीय है कि 12 नवंबर को त्रिपुरा की सांप्रदायिक हिंसा के खिलाफ महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों में कुछ मुस्लिम संगठनों ने रैलियां निकाली थीं। इस दौरान पत्थरबाजी की घटनाएं हुई थीं। फड़नवीस ने कहा कि ये रैलियां गलत सूचनाओं के आधार पर निकाली गई थीं। यह राज्य में अशांति उत्पन्न करने का जान-बूझकर और सुनियोजित प्रयास था। इससे पहले फड़नवीस ने कहा था कि पिछले सप्ताह अमरावती और मालेगांव में विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा पूर्व नियोजित थी। पार्टी पदाधिकारियों और विधायकों के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इसका मकसद समाज का ध्रुवीकरण करना था।

गलत प्रचार का शिकार नहीं बनेगी जनता: यशोमति ठाकुर 

इधर अमरावती जिले की पालक मंत्री यशोमति ठाकुर ने कहा कि भाजपा अमरावती के माहौल को बिगाड़ने का प्रयास न करें। यहां की जनता ऐसी राजनीति की शिकार नहीं होगी। 12 और 13 नवंबर को जो कुछ हुआ, वह अमरावती के इतिहास का काला अध्याय था। विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस के अमरावती दौरे पर किए गए आरोपों का जवाब देते हुए यशोमति ठाकुर ने कहा कि उनके बयान गैर जिम्मेदाराना हैं।  अमरावती की जनता होशियार है और वह गलत प्रचार का शिकार नहीं बनेगी। उन्होंने कहा कि स्थिति का नियंत्रण में लाने के लिए राज्य की जनता ने सरकार की बड़े पैमाने पर मदद की। उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़नवीस जिम्मेदार नेता हैं, लेकिन वे वोटों की राजनीति के लिए राज्य के माहौल को खराब करना चाहते हैं। अमरावती में 12 और 13 तारीख को हुई दोनों घटनाएं समान रूप से दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। दोनों घटनाओं में शामिल लोगों पर कार्रवाई शुरु है, इतना ही नहीं इस घटना में सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास करने वालों के खिलाफ साइबर सेल का विशेष दस्ता जांच कर रहा है।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget