मंत्रालय जाना शुरू करेंगे ठाकरे


मुंबई

दिवाली के मौके पर सोमवार को अपने सरकारी आवास वर्षा पर पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि अब वे मंत्रालय जाना शुरु करेंगे। मंत्रालय नहीं जाने के सवाल पर ठाकरे ने कहा कि मंत्रालय बिल्कुल जाना चाहिए, लेकिन किसी को शिकायत है कि उनका काम नहीं हुआ? बिना काम के राज्यभर में घूमना और एक जगह बैठकर काम करने में काफी फर्क है। जनता को काम होने से मतलब है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने तय किया है कि मुख्यमंत्री सहायता निधि और प्रधानमंत्री राहत कोष की राशि के खर्च का ब्योरा एक साथ घोषित करेंगे। बता दें कि मुख्यमंत्री के मंत्रालय नहीं आने पर विपक्ष की तरफ से लगातार उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। महाविकास आघाड़ी का सारा कामकाज सह्याद्रि गेस्ट हाऊस और मुख्यमंत्री के सरकारी आवास वर्षा बंगले से चल रहा है। कोरोना काल के दरम्यान उद्धव ठाकरे चंद बार ही मंत्रालय आए हैं।

...तो लगाता तस्वीरों की प्रदर्शनी

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे कोरोना की वजह से फोटोग्राफी नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर समझौते के अनुसार सब कुछ होता तो शायद मैं तस्वीरों की प्रदर्शनी लगाता। उनका इशारा साल 2019 के विधानसभा चुनाव बाद भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद देने का कथित वादा पूरा न करने को लेकर था। ठाकरे ने कहा कि फोटोग्राफी और राजनीति में एक्सपोजिंग और डेवलप करना काफी महत्वपूर्ण होता है।

...तो लगाना होगा दोबारा लॉकडाउन

ठाकरे ने कहा कि नागरिक अब कोरोना रोधी टीका लगवाने नहीं आ रहे हैं। हर व्यक्ति को पकड़कर टीका नहीं दिया जा सकता। लोगों में कोरोना का डर कम हो गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्नाटक में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। महाराष्ट्र में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना है भी और नहीं भी। क्योंकि यदि महाराष्ट्र में कोरोना का कोई नया म्यूटेशन घातक हुआ तो समस्या पैदा हो सकती है। इसके अलावा बाहर का कोई वेरिएंट या तो राज्य में खतरा पैदा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कोरोना के मरीजों के लिए 4.50 लाख बिस्तर तैयार किए गए हैं। जिसमें से 1.25 लाख आईसीयू बिस्तर हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में जिस दिन कोरोना के मरीजों को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत पड़ेगी उस दिन दोबारा लॉकडाउन लागू कर दिया जाएगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget