कानपुर में दीपावली पर जीका वायरस का धमाका

 


कानपुर

दीपावली के दिन जीका वायरस ने फिर विस्फोट किया है। शहर में एक साथ 30 लोगों में संक्रमण की पुष्टि होने से अब संख्या 66 हो गई है। इसके बाद स्वास्थ्य के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की मशक्कत बढ़ गई है। वहीं, लगातार जीका वायरस के केस मिलने से शासन के राडार पर शहर आ गया है। स्वास्थ्य महकमे के अफसर संक्रमितों को घर पर ही मच्छरदानी लगाकर रहने की सलाह दे रहे हैं। सीएमओ डाॅ. नैपाल सिंह ने बताया कि लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी केजीएमयू और पुणे की नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलाजी रिपोर्ट में पुष्टि हुई है। गुरुवार को जीका वायरस से एक साथ 30 संक्रमित मिलने से स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों की परेशानी बढ़ा दी है। आनन-फानन सर्विलांस टीमों को सक्रिय कर दिया गया है। नए संक्रमितों से उनके मोबाइल फोन संपर्क कर सत्यापन किया जा रहा है। साथ ही जरूरी एहतियात बरतने की सलाह दी जा रही है। उन्हें घर पर ही आइसोलेशन में रहने को कहा गया है। उन्हें मच्छरदानी लगाकर रहने के लिए कहा गया है। ताकि मच्छरों की वजह से घर के दूसरे स्वजन न संक्रमित होने पाएं। स्वास्थ्य विभाग उनकी निगरानी भी कर रहा है। नए संक्रमितों में तीन महिलाएं और 27 पुरुष हैं। जीका की चपेट में आने वालों में बच्चे, युवा और बुजुर्ग सभी हैं। बुधवार तक चार बच्चियों समेत महिलाओं की संख्या 18 थी, तीन और मिलने से संक्रमित महिलाएं 21 हो गई हैं। गुरुवार को आए संक्रमित हरजिंदर नगर और एयरफोर्स परिसर के हैं। जीका वायरस से सर्वाधिक प्रभावित आदर्श नगर है, यहां अब तक सबसे ज्यादा संक्रमित मिले हैं। वहीं, पोखरपुर में चार जीका वायरस संक्रमित मिले हैं। इसी तरह लालकुर्ती से एक, मोतीनगर से एक, अशर्फाबाद से एक, कृष्णा नगर में एक, हरजिंदरनगर से भी नए संक्रमित पाए गए हैं। शहर के जीका प्रभावित क्षेत्रों 30 लोगों में जीका वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। मेडिकल टीमों और सर्विलांस टीमों से लगातार सोर्स रिडक्शन और घर-घर जाकर सैंपलिंग व साफ-सफाई का कार्य कराया जा रहा है। मच्छरों से बचने की सलाह दी गई है। 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget