'संकटमोचक' बनेंगे सचिन पायलट?

पंजाब की तर्ज पर ही राजस्थान में भी कांग्रेस क्या अब अपना मुख्यमंत्री बदलने वाली है या फिर सचिन पायलट गुट के कुछ विधायकों को मंत्री बनाकर व उनकी बगावत थामकर अपना किला बचाने में वह कामयाब हो जाएगी? मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने मंत्रिमंडल के सभी मंत्रियों का इस्तीफा शनिवार को ले लिया। अब रविवार को एक नई शक्ल दी जा सकती है। लेकिन गहलोत का इस्तीफा होगा कि नहीं, ये सस्पेंस अभी तक बना है, क्योंकि राजनीति में कुछ भी स्थायी नहीं होता, वो हालात के मुताबिक हर पल बदलती ही रहती है। बड़ा सवाल ये है कि पिछले डेढ़ साल से गहलोत से नाराज चल रहे पार्टी के युवा और कद्दावर नेता सचिन पायलट को आलाकमान क्या इतनी आसानी से राजी कर लेगा? राजस्थान में चुनाव भले ही 2023 में होने हैं, लेकिन वहां गहलोत और पायलट गुट के बीच चल रही खींचतान जिस मुकाम तक आ पहुंची है, उसे देखते हुए गांधी परिवार ओवर एक्टिव मोड में आ गया है, क्योंकि वह न तो पंजाब वाले हालात दोहराना चाहता है और न ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के पाला बदल लेने से मध्य प्रदेश की तरह ही अपनी सत्ता खोना चाहता है। यही वजह है कि पार्टी के प्रभारी महासचिव अजय माकन ने जयपुर में अपना डेरा डाल लिया। उन्होंने दोनों गुटों के मंत्रियों-विधायकों से अलग-अलग मिलकर उनका जो फीडबैक लिया, उसकी पूरी जानकारी वे यूपी के दौरे पर गईं प्रियंका गांधी को देते रहे।

हालांकि माकन के करीबियों का दावा है कि राजस्थान में न तो पंजाब दोहराया जाएगा और न ही मध्य प्रदेश जैसी खतरे की ही कोई नौबत है, क्योंकि दोनों गुटों के बीच सुलह का रास्ता निकाल लिया गया है। बताया गया है कि कांग्रेस वहां 'एक व्यक्ति, एक पद' वाला फॉर्मूला लागू करने जा रही है। इसके लागू होने के बाद कोई नेता सिर्फ एक ही पद पर रह सकता है, फिर चाहे वो संगठन हो या सरकार। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इस फॉर्मूले का सबसे ज्यादा असर मुख्यमंत्री गहलोत पर होगा, क्योंकि इससे उनके कई समर्थक मंत्रियों की कुर्सी जा सकती है।

आलाकमान के निर्देश पर कल जयपुर पहुंचे राजस्थान के प्रभारी अजय माकन ने इसकी तस्दीक करते हुए कहा था कि राजस्थान कैबिनेट के तीन मंत्रियों गोविंद सिंह डोटासरा, रघु शर्मा और हरीश चौधरी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पद से हटने की इच्छा जताई है। तीनों नेता पार्टी संगठन में काम करना चाहते हैं। रघु शर्मा गुजरात और हरीश चौधरी पंजाब के पार्टी प्रभारी हैं। जबकि गोविंद सिंह डोटासरा राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। माकन ने कहा कि कांग्रेस पार्टी इनका सम्मान करती है। हमें खुशी है कि ऐसे होनहार लोग हैं जो पार्टी के लिए काम करना चाहते हैं। लेकिन पार्टी के अंदरुनी सूत्रों की बातों पर अगर यकीन करें, तो प्रियंका गांधी की पहल पर ही ये फार्मूला निकाला गया है, ताकि सचिन पायलट को उनके समर्थक ढाई दर्जन विधायकों के साथ भाजपा में जाने और सरकार को गिरने से बचाया जा सके।

दरअसल, पिछले साल मार्च में पार्टी के युवा चेहरे ज्योतिरादित्य सिंधिया को न मना पाने और पार्टी छोड़कर जाने से न रोक पाने की जो गलती राहुल गांधी ने की थी, उससे प्रियंका गांधी ने एक बड़ा सबक लिया है। ऐसा नहीं हो सकता कि वो इस खबर से अनजान हों कि पिछले कुछेक महीने से भाजपा के दो बड़े नेता लगातार सचिन पायलट के संपर्क में थे, इसीलिए प्रियंका ने पायलट के साथ संवाद कम करने की बजाय उसे और अधिक बढ़ा दिया और उनके दिये सुझावों पर अमल करने के लिए अपनी तेजी भी दिखा दी।

उनके कहने पर ही 10 नवंबर को मुख्यमंत्री गहलोत को दिल्ली तलब किया गया था। प्रियंका-गहलोत के बीच काफी देर तक चली इस मीटिंग में पार्टी महासचिव के के वेणुगोपाल और अजय माकन भी मौजूद थे। बताया जाता है कि उसी बैठक में प्रियंका ने ये साफ कर दिया था कि ये फार्मूला लागू होने के बाद पायलट गुट के अधिकतम विधायकों को कैबिनेट में एडजस्ट किया जायेगा। अगले दिन गहलोत ने सोनिया गांधी से भी मुलाकात की थी। उस बैठक के बाद गहलोत ने कहा था, थोड़ा सब्र रखें। सब सामने आएगा। हाई कमान तय करेगा कि विस्तार कब करना है। हमने ये फैसला हाई कमान पर छोड़ दिया है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget