डेंगू के कहर पर केंद्र अलर्ट

प्रभावित राज्यों में जाएगी एक्सपर्ट्स की टीम  दिल्ली में 6 ने गंवाई जान


नई दिल्ली

राजधानी दिल्ली में लगातार डेंगू से बिगड़ती स्थिति पर केंद्र सरकार अलर्ट हो गई है। खबर है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालयों  ने प्रभावित राज्यों की मदद करने के लिए एक्सपर्ट टीम को भेजने का फैसला किया है। सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने हालात की गंभीरता के मद्देनजर राजधानी में डेंगू की स्थिति की समीक्षा की। इस दौरान केंद्र और राज्य सरकारों के बीच तालमेल की बात पर जोर दिया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने फैसला किया है कि डेंगू से प्रभावित राज्यों की पहचान और केसलोड की जानकारी जुटाई जाएगी। साथ ही केंद्र सरकार ने इन राज्यों में हालात को काबू करने के लिए विशेषज्ञों की एक टीम को रवाना करने की भी योजना बनाई है। सोमवार को हुई बैठक में केंद्र और राज्य सरकारों को साथ मिलकर एक योजना पर काम करने की बात कही गई है। स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने टेस्टिंग की रफ्तार बढ़ाने के लिए कहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने केंद्र और राज्यों के बीच तालमेल की जरूरत पर भी जोर दिया। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि कुछ अस्पताल डेंगू के मामलों से भरे हुए हैं, जबकि दूसरे अस्पतालों में बिस्तर खाली हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली के अधिकारियों से अनुरोध किया कि वो डेंगू के इलाज के लिए कोविड बिस्तरों को फिर से तैयार करने की संभावना पर गौर करें। इस बैठक में ये निर्णय लिया गया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी डेंगू से निपटने के लिए एक विस्तृत कार्य योजना तैयार करने के लिए दिल्ली सरकार का समर्थन करेंगे। मनसुख मंडाविया को इस मीटिंग में जानकारी दी गई कि स्कूली बच्चों को लार्वा नियंत्रण के बारे में जागरूक करने और पक्षियों के लिए भोजन के कटोरे, कूलर आदि को सुनिश्चित करने के लिए प्रशिक्षण देने के लिए दिल्ली सरकार का अभियान चलाया जाएगा।

गंबुसिया जैसी जैविक लार्विसाइड मछलियों को 163 स्थलों पर तैनात किया गया है। दिल्ली बुखार के सभी मामलों, डेंगू के संदिग्ध मामलों और पुष्ट मामलों की निगरानी कर रही है। हालांकि सिर्फ 10 प्रतिशत मामले गंभीर हैं और मृत्यु दर शायद ही कभी 1 प्रतिशत को पार करती है। दिल्ली सरकार के सभी अधिकारियों ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को आश्वासन दिया कि इस प्रकोप को नियंत्रित किया जाएगा। खबर है कि इस बैठक में नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल और नेशनल वेक्टर बोर्न डिसीज कंट्रोल प्रोग्राम के अधिकारी भी मौजूद रहे। हर साल मानसून की शुरुआत के साथ ही दिल्ली में डेंगू के मामले ज्यादा संख्या में मिलते हैं।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget