भारत को स्कॉटलैंड के खिलाफ भी चाहिए बड़ी जीत

5वां गेंदबाज बना टीम की समस्या


नई दिल्ली

भारतीय टीम टी-20 विश्व कप में स्कॉटलैंड के खिलाफ शुक्रवार को एक और ‘करो या मरो’ के मैच में बड़े अंतर से जीत दर्ज करने के इरादे से उतरेगी। अफगानिस्तान पर 66 रन से मिली जीत के बाद भारत की नजरें उस लय को कायम रखने पर लगी होगी। स्कॉटलैंड के खिलाफ भारत को न सिर्फ जीत दर्ज करनी होगी, बल्कि रनरेट सुधारने के लिये विशाल अंतर से जीत और दूसरी टीमों के नतीजे अपने अनुकूल रहने की भी उम्मीद करनी होगी। पाकिस्तान  और न्यूजीलैंड से पहले दो मैचों में करारी हार से भारत का रनरेट भी खराब हो गया है। भारत के लिये अब हर मैच नॉकआउट जैसा ही है। पाकिस्तान लगातार चार जीत के साथ सेमीफाइनल में पहुंच चुका है और न्यूजीलैंड के भी ग्रुप दो से पहुंचने की संभावना प्रबल है। वैसे न्यूजीलैंड अगर नामीबिया या अफगानिस्तान से हारता है तो भारत की उम्मीदें बन सकती है। भारतीय टीम हालांकि उसी पर फोकस करना चाहेगी जो उसके हाथ में है। ऐसे में विराट कोहली और टीम की नजरें स्कॉटलैंड को भारी अंतर से हराने पर लगी है। पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ नाकाम रहे भारत के बल्लेबाज और गेंदबाज दोनों ने अफगानिस्तान के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया। तीसरे नंबर पर उतारने के विवादास्पद फैसले के बाद रोहित शर्मा से फिर पारी की शुरूआत कराई गई और उन्होंने शानदार अर्धशतक जमाकर अपना फॉर्म जाहिर कर दिया। रोहित ने मैच के बाद स्वीकार किया कि पहले दो मैचों में कुछ फैसले गलत हो गए लेकिन कहा कि लगातार क्रिकेट खेलने से हुई मानसिक थकान के कारण ऐसा होता है। रोहित, के एल राहुल, ऋषभ पंत और हार्दिक पंड्या सभी ने अफगानिस्तान के खिलाफ रन बनाये। न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में बाहर रहने के बाद टीम में लौटे सूर्यकुमार यादव के आने से बल्लेबाजी मजबूत हुई है। उनके अलावा रवींद्र जडेजा भी निचले क्रम पर उपयोगी साबित होते हैं। गेंदबाजी में चार साल बाद टी-20 मैच खेल रहे रविचंद्रन अश्विन ने चार ओवर में 14 रन देकर दो विकेट लिये।

उन्हें लगातार बाहर रखने के फैसले की आलोचना के बाद आखिरकार उन्हें अंतिम एकादश में जगह दी गई. कप्तान विराट कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘अश्विन की वापसी काफी सकारात्मक रही. उसने इसके लिये काफी मेहनत की है. उसने आईपीएल में भी यह नियंत्रण और लय दिखाई थी. वह चतुर होने के साथ विकेट लेने वाला गेंदबाज भी है. स्पिनर वरुण चक्रवर्ती की चोट के कारण अश्विन को उतारा गया हालांकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का दबाव झेलने में चक्रवर्ती की नाकामी जाहिर हो गई और अब उनका आगे खेलना संभव नहीं लग रहा . मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह ने भी उम्दा गेंदबाजी की. भारत की समस्या 5वें गेंदबाज की है. भुवनेश्वर की जगह टीम में शामिल शार्दुल ठाकुर पूरी तरह नाकाम रहे हैं. शार्दुल ने पिछले दो मैचो में 4.3 ओवर गेंदबाजी की है और बिना कोई विकेट लिए 48 रन दे डाले है. पंड्या ने भी न्यूजीलैंड-अफगानिस्तान के खिलाफ 4 ओवर में 40 रन दिए हैं जबकि उन्हें कोई सफलता नहीं मिली है.जहां तक स्कॉटलैंड की बात है तो विकेटकीपर मैथ्यू क्रॉस ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच के दौरान स्टम्प माइक में गेंदबाज क्रिस ग्रीव्स से कहा था कि पूरा भारत उनका समर्थन कर रहा है. न्यूजीलैंड ने उन्हें 16 रन से हरा दिया था हालांकि स्कॉटलैंड जीत जाती तो भारत की राह आसान हो जाती.


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget