पाकिस्तान के सामने मजबूत कंगारुओं की चुनौती


दुबई

पाकिस्तान की टीम अपने दूसरे खिताब की ओर बढ़ती नजर आ रही है, लेकिन गुरुवार को यहां टी-20 विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसकी राह आसान नहीं होगी,क्योंकि आरोन फिंच की टीम ने सही समय पर लय हासिल कर ली है। विश्व टी-20 2016 के पहले दौर में बाहर होने के बाद पाकिस्तान ने इस बार शानदार प्रदर्शन किया है।

बाबर आजम की अगुआई वाला 2009 का चैंपियन पाकिस्तान मौजूदा टूर्नामेंट की एकमात्र टीम है, जिसे अब तक शिकस्त का सामना नहीं करना पड़ा है। दोनों टीमों के बीच पिछली बार टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने माइक हसी के शानदार प्रदर्शन की बदौलत रोमांचक मुकाबले में जीत दर्ज की थी। यूएई में हालांकि मौजूदा टूर्नामेंट में पाकिस्तान की टीम दबाव में अच्छा प्रदर्शन कर रही है और यहां की परिस्थितियों को लेकर सहज है।

यूएई पाकिस्तान का होम ग्राउंड

वर्ष 2009 में श्रीलंका की टीम बस पर आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान में लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं हुआ और देश ने यूएई में अपने घरेलू मैच खेले। पाकिस्तान सुपर लीग के कई सत्र भी यहां आयोजित हुए। भारत के खिलाफ ऐतिहासिक जीत से अभियान शुरू करने वाली पाकिस्तान की टीम अजेय नजर आ रही है और न्यूजीलैंड तथा अफगानिस्तान के खिलाफ विषम हालात में जीत दर्ज करके जज्बा दिखा चुकी है।

लोअर ऑर्डर भी लय मेंः बाबर और मोहम्मद रिजवान की सलामी जोड़ी अगर विफल रहती है तो पाकिस्तान के पास मध्यक्रम में कई मैच विजेता हैं जिसमें लंबे छक्के जड़ने वाले आसिफ अली और अनुभवी शोएब मलिक और मोहम्मद हफीज सभी लय में हैं। टीम को हालांकि फखर जमां से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद होगी जो एकमात्र बल्लेबाज हैं जो अब तक नाकाम रहे हैं।

गेंदबाजी में भी दमः पाकिस्तान के गेंदबाजी आक्रमण ने भी काफी प्रभावित किया है। तेज गेंदबाजों शाहीन शाह अफरीदी और हारिस राउफ ने विरोधी बल्लेबाजों को परेशान किया है लेकिन हसन अली उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। बाबर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हसन से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। इमाद वसीम, मोहम्मद हफीज और शादाब खान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ स्पिन विभाग में कप्तान बाबर के मुख्य हथियार होंगे।

स्पिन ऑस्ट्रेलिया की कमजोरी

स्पिन के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया को कई मौकों पर परेशानी का सामना करना पड़ा है। दूसरी तरफ 2010 का उपविजेता ऑस्ट्रेलिया सही समय पर अपना शीर्ष खेल दिखा रहा है और वह यहां खिताब जीतकर आईसीसी के उस टूर्नामेंट को भी जीतना चाहेगा जिसे अब तक नहीं जीत पाया है। इंग्लैंड के खिलाफ आठ विकेट की शिकस्त के अलावा फिंच की अगुआई वाली टीम ने अपने बाकी सभी मुकाबलों में दबदबा बनाते हुए जीत दर्ज की है और दक्षिण अफ्रीका को पछाड़कर सेमीफाइनल में जगह बनाई।

वॉर्नर-फिंच की जोड़ी पर दारोमदार

ऑस्ट्रेलिया के पास जोश हेजलवुड, मिचेल स्टार्क और पैट कमिंस की मौजूदगी वाला बेहद मजबूत तेज गेंदबाजी आक्रमण है, जबकि बीच के ओवरों में लेग स्पिनर एडम जंपा ने शानदार प्रदर्शन किया है जो मौजूदा टूर्नामेंट के दूसरे सबसे सफल गेंदबाज हैं। 

ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल और मिचेल मार्श ने टीम को गेंद से सफलताएं दिलाई है और उसके पास बाएं हाथ के स्पिनर एश्टन एगर को खिलाने का विकल्प भी होगा। डेविड वॉर्नर की फॉर्म में वापसी से ऑस्ट्रेलिया को मजबूती मिली है। टूर्नामेंट से पहले खराब फॉर्म से जूझ रहे वॉर्नर दो अर्धशतक जड़ चुके हैं, जिसमें पिछले मैच में नाबाद 89 रन की पारी भी शामिल है।

दोनों टीम इस प्रकार हैं

ऑस्ट्रेलिया: आरोन फिंच (कप्तान), एश्टन एगर, पैट कमिंस, जोश हेजलवुड, जोश इंगलिस, मिशेल मार्श, ग्लेन मैक्सवेल, केन रिचर्डसन, स्टीव स्मिथ, मिशेल स्टार्क, मार्कस स्टोइनिस, मिशेल स्वेपसन, मैथ्यू वेड, डेविड वार्नर और एडम जम्पा।

पाकिस्तान: बाबर आजम (कप्तान), शादाब खान, आसिफ अली, फखर जमां, हैदर अली, हारिस राउफ, हसन अली, इमाद वसीम, मोहम्मद हफीज, मोहम्मद नवाज, मोहम्मद रिजवान, मोहम्मद वसीम जूनियर, सरफराज अहमद, शाहीन शाह अफरीदी और शोएब मलिक।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget