कोरोना काल के बाद धूमधाम से मनी ​दिवाली

रोशनी से नहाई मुंबई, देर रात तक गूंजे पटाखों के शोर | सरकारी दिशा-निर्देश पर आस्था पड़ी भारी  | बाजारों में उमड़ी भीड़ से व्यापारियों में उत्साह      


मुंबई

कोरोना संकट के चलते पिछले लगभग बीस महीनों से प्रतिबंधों में जी रहे मुंबईकरों ने धूमधाम से ​िदवाली का त्यौहार मनाया। डेढ़ सालों से सिर्फ प्रतीकात्मक रूप से त्योहारों को मनाने को मजबूर लोगों ने इस िदवाली पर सारी कसर पूरी करने की कोशिश की। बाजारों में जिस तरह से एक महीने पहले से ही चहल-पहल शुरू हो गई थी, तभी एहसास होने लगा था कि इस दीवाली पर लोग पुरानी रंगत में आते दिखेंगे। बहरहाल धनतेरस शुरू हुई पांच दिवसीय िदवाली महोत्सव भाई दूज तक चलेगी। गुरुवार को मुंबई में िदवाली का पुराना नजारा देखने को मिला, जब घरों के अलावा इमारतों को भी रोशनी से सजाया गया था। शहर में आतिशबाजी की धूम ने कोरोना पूर्व की दीवाली की याद दिला दी। मुंबई शहर ही नहीं बल्कि उपनगरों में भी देर रात तक पटाखों के शोर गूंजते रहे।  

कोरोना की दूसरी लहर के थमने के बाद स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने अगस्त सितंबर में तीसरी लहर आने की संभावना जताई थी, लेकिन माना जा रहा है कि तेजी से हुए टीकाकरण ने लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा दिया जिससे कोरोना को पैर पसारने का मौका नहीं मिला। बहरहाल गणेशोत्सव के बाद से शुरू हुए त्योहारों के मौसम में उमड़ने वाली भीड़ पर प्रशासन की नजर बनी हुई है। हालांकि वस्तुस्थिति का जायजा लेने के बाद राज्य सरकार ने अनेक क्षेत्रों को प्रतिबंधों से मुक्त कर दिया है तो अनेक क्षेत्रों में सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं। 

सरकारी इमारतों में भी रोशनाई

मुंबई की विरासत संजोने वाली इमारतों के साथ लगभग सभी सरकारी इमारतों में रोशनाई की गई थी। सीएसएमटी, मनपा मुख्यालय, चर्चगेट के पश्चिम रेलवे मुख्यालय को रोशनी से सजाया गया था। इसी तरह उपनगरों के आवासीय इमारतों और सोसायटियों को भी बिजली की रंगीन रोशनी से सजाया गया था। हिंदी दैनिक हमारा महानगर कार्यालय में भी दीपोत्सव मनाया गया। लक्ष्मी गणेश पूजन के साथ दीपदान किया गया। बीआयएस कार्यालय में भी लक्ष्मी पूजन किया गया।   


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget