शहर में जगह-जगह कचरे का अंबार

उल्हासनगर

मनपा कर्मियों की लापरवाही से शहर में जगह-जगह कचरे का अंबार लगा हुआ है जिससे बीमारियों के बढ़ने का खतरा उत्पन्न हो गया है, जबकि मनपा प्रशासन शहर में कचरा उठाने तथा साफ-सफाई के कोणार्क कंपनी को प्रतिदिन 4 लाख 60 हजार रुपए का भुगतान करती है। इसके बावजूद शहर में कचरे का अंबार जमा है। मनपा प्रशासन जनता से प्रतिवर्ष सुविधाओं के लिए टैक्स वसूलती है, जिसमें साफ-सफाई, सड़क, पानी समेत अनेक सुविधाएं शामिल हैं।

  उल्लेखनीय है कि समय से टैक्स नहीं अदा करने पर लोगों से प्रशासन दंड वसूल करती है, इसके बाद भी मूलभूत सुविधाएं देने में नाकाम साबित हो रही है. ज्यादातर नागरिक सुविधाओं का ठेका निजी कंपनियों को दिया गया है. ठेकेदार अपनी मनमानी करते रहते हैं। शिकायत के बाद मनपा आयुक्त प्रशासन को कार्रवाई करने का आदेश देते हैं, इसके बावजूद भी अधिकारी शिकायत को नजरअंदाज कर ठेकेदारों के खिलाफ कार्यवाही करने से कतराते हैं। शहर में जगह जगह कचरा जमा होने से मनपा प्रशासन और जनप्रतिनिधियों के खिलाफ नाराजगी बढ़ने लगी है। उल्हासनगर मनपा को केंद्र सरकार के स्वच्छता सर्वेक्षण में 77 वा स्थान प्राप्त हुआ है, जिसका नजारा यहां की सड़कों पर देखने को मिल रहा है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget