तीसरी आंख से होगी पटना की निगरानी

पटना

पटना की सड़कों की निगरानी अब तीसरी आंख से होगी। पटना स्मार्ट सिटी के तहत इंटीग्रेटेट कमांड कंट्रोल सेंटर परियोजना के अंतर्गत शहर में उच्च क्षमता के कैमरे, इंटरनेंट आधारित वॉयस कॉल बॉक्स, पब्लिक एड्रेस बॉक्स आदि की व्यवस्था होगी। 2,750 सीसीटीवी कैमरे से राजधानी में यातायात की निगरानी होगी। नगर निगम एवं निकटवर्ती क्षेत्रों की निगरानी, सुरक्षा, यातायात व्यवस्था एवं आपदा प्रबंधन को दृढ़ करने के लिए पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा 15 महीने के भीतर इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर परियोजना पूर्ण किया जाएगा। इसके लिए नगर आयुक्त सह पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक हिमांशु शर्मा एवं चयनित एजेंसी लार्सन एंड टुब्रो लि. के अधिकारियों में करार पर हस्ताक्षर हुए।

वाहनों का कटेगा ई-चालान

इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम भी होगा। इसके तहत नंबर प्लेट पहचान, लाल बत्ती उल्लंघन, स्पीड लिमिट उल्लंघन, बिना हेलमेट सवारी, ट्रिपल सवारी समेत यातायात व्यवस्था की डिजिटल मॉनिटरिंग होगी। इसके तहत तुरंत ई-चालान व अन्य कार्रवाई होगी।

गांधी मैदान के पास होगा डाटा सेंटर

गांधी मैदान स्थित एसएसपी कार्यालय परिसर में नवनिर्मित भवन को डाटा सेंटर के रूप में विकसित किया जाएगा। इस सेंटर के माध्यम से निगरानी होगी। एकरारनामे के दौरान पटना स्मार्ट सिटी लि. के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी मो. शमशाद, मुख्य महाप्रबंधक सुधीर कुमार साहू, मुख्य वित्त प्रबंधक परविंद सिंह, आईटी मैनेजर राजीव कुमार एवं एलएंडटी के वरीय अधिकारीगण मौजूद रहें।

व्यक्ति विशेष की पहचान करने में दक्ष कैमरे

परियोजना के तहत निगरानी एवं सुरक्षा के लिए 2,750 स्थानों पर अत्याधुनिक तकनीक से लैस सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इन कैमरों से प्राप्त फीड को वीडियो एनालिटिक्स के माध्यम से डी-कोड किया जाएगा। ये कैमरे हावभाव के आधार पर भी व्यक्ति विशेष की पहचान करने में दक्ष है। इससे गुमशुदा लोगों एवं वांटेड अपराधियों की पहचान आसान होगी। परियोजना के अंतर्गत पटना शहर के सभी थानों, रेलवे स्टेशनों को जोड़ा जाएगा। आवश्यकतानुसार कैमरों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।

ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क आधारित होगी पूरी प्रणाली

सीसीटीवी कैमरों, ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम के यंत्रों, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, इमरजेंसी कॉल बॉक्स आदि के लिए शहर में करीब 220 किलोमीटर तक ऑप्टिकल फाइबर केवल नेटवर्क का रिंग तैयार किया जाएगा। यह संचार के विभिन्न माध्यमों के लिए बैकबोन का कार्य करेगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget