पीएम ने दी पंढरपुर को सौगात

मोदी बोले- सबके लिए खुले भगवान विट्‌ठल के द्वार


पुणे 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए महाराष्ट्र के पंढरपुर शहर के संपर्क में सुधार लाने के लिए दो सड़क परियोजनाओं की आधारशिला रखी। उन्होंने श्री संत ज्ञानेश्वर महाराज पालकी मार्ग (एनएच-965) के पांच खंडों और श्री संत तुकाराम महाराज पालकी मार्ग (एनएच-965जी) के तीन खंडों को चार लेन का बनाने का शिलान्यास किया। इन राष्ट्रीय राजमार्गों के दोनों ओर ‘पालखी’ (पालकी) के लिए समर्पित पैदल मार्ग का निर्माण किया जाएगा, ताकि भक्तों को परेशानी न हो और उन्हें सुरक्षित रास्ता उपलब्ध हो सके।  

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वे विट्‌ठल और वारकरियों को नमन करते हैं। देश में कितने भी संकट आए, लेकिन भगवान विट्‌ठल की दिंडी निरंतर जारी रही। पंढरपुर की वारी विश्व में सबसे प्राचीन जनयात्रा के रूप में पहचानी जाती है। आषाढ़ी एकादशी का विहंगम दृश्य कोई भी नहीं भूल सकता। इसमें हजारों भक्त शामिल होते हैं। आखिर में सभी पंथ भागवत पंथ है। पीएम मोदी ने कहा कि सबका साथ सबका विकास की संकल्पना भगवान विट्‌ठल से मिलने वाली प्रेरणा से निर्मित हुई। मेरा पंढरपुर से विशेष नाता है। भगवान द्वारकाधीश यहां आकर विट्‌ठल के रूप में विराजमान हुए। पंढरपुर में शिलान्यास समारोह के दौरान केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, सड़क परिवहन और राजमार्ग राज्यमंत्री वी के सिंह और महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस व्यक्तिगत रूप से मौजूद थे। इस कार्यक्रम में राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये शामिल हुए। दिवेघाट से मोहोल तक संत ज्ञानेश्वर महाराज पालकी मार्ग के करीब 221 किलोमीटर हिस्से और पतस से टोंदल-बोंदले तक संत तुकाराम महाराज पालकी मार्ग के करीब 130 किलोमीटर हिस्से को क्रमश: करीब 6,690 करोड़ रुपए और करीब 4,400 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से चार लेन का किया जाएगा।

इस अवसर पर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि नितिन गडकरी ने पुण्य का काम हाथ में लिया है। उन्होंने महाराष्ट्र सरकार से कुछ अपेक्षा की है। पालखी मार्ग का विकास करना हम सभी की जिम्मेदारी है। महाराष्ट्र का हर कदम आपके साथ है। इस दरम्यान मुख्यमंत्री मंच पर उपस्थित पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के नाम का उल्लेख करना भूल गए। बाद में उन्होंने भूल सुधार करते हुए कहा कि देवेंद्र जी सारी। आपका नाम रह गया। महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता और हमारे सहयोगी बोलते हुए उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत की। इस मौके पर गडकरी ने कहा कि पंढरपुर विशेष प्रेरणा स्थल है। पालखी मार्ग बनाने का अवसर मिलने पर मैं बेहद भाग्यशाली हूं।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget