डायबिटीज को मैनेज करने के लिए मुट्ठी भर बादाम


शोध बताता है कि जीवनशैली में बदलाव, जैसे शारीरिक गतिविधि बढ़ाना, ज्यादा वजन को कम करना और डाइट में महत्वपूर्ण बदलाव करना न केवल टाइप 2 डायबिटीज को मैनेज करने में सहायक होता है, बल्कि ज्यादा जोखिम वाले लोग इससे टाइप 2 डायबिटीज होने का जोखिम कम कर सकते हैं और उन्हें दवाओं से बेहतर लंबे समय के प्रभाव भी मिल सकते हैं। दुनिया जागरूकता बढ़ाने के लिये एकजुट हो रही है और वर्ल्ड डायबिटीज डे 2021-23 का थीम है ‘एक्सेस टू डायबिटीज केयर’। इंसुलिन की खोज को 100 वर्ष बीत चुके है, फिर भी डायबिटीज के लाखों रोगियों की पहुँच इस रोग को मैनेज करने के लिये जरूरी देखभाल तक नहीं है। चूंकि यह जीवनशैली से जुड़ा रोग है, इसलिये इसके रोगी को लगातार देखभाल और सहयोग चाहिये होता है, ताकि वे इसे मैनेज कर सकें और भविष्य की परेशानियों से बच सकें। दशकों तक मिला प्रमाण टाइप 2 डायबिटीज या प्री-डायबिटीज वालों के लिये फायदेमंद डाइटरी पैटर्न के हिस्‍से के तौर पर बादाम और अन्य ट्री नट्स की भूमिका का समर्थन करता है। डाइटरी और लाइफस्टाइल की मध्यस्थताएं डायबिटीज के इलाज का महत्‍वपूर्ण भाग हैं और एक लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड के तौर पर पोषक-तत्वों का शक्तिशाली पैकेज प्रदान करने वाले बादाम का न्‍यू‍ट्रीयेंट प्रोफाइल उन्‍हें प्री-डायबिटीज या टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों के लिये एक स्मार्ट स्नैक बनाता है। इसका कारण बादाम में प्‍लांट प्रोटीन, डाइटरी फाइबर, गुड फैट और महत्वपूर्ण विटामिंस और मिनरल्‍स, जैसे विटामिन ‘ई’, मैग्नीशियम और पोटेशियम होना है।

.

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget