​बिगड़े बोल के चक्रव्यूह में फंसी कंगना

पद्मश्री वापस लेकर केस दर्ज करने की मांग


मुंबई 

फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के विवादास्पद बयान पर महाराष्ट्र में सियासत शुरू हो गई है। कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना नेताओं ने मांग की है कि उन्हें दिए गए सभी पुरस्कार वापस लेकर उनके खिलाफ केस दाखिल किया जाए।

राष्ट्रवादी कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता और अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि करोड़ों भारतीय और स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करने वाले फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत से केंद्र सरकार पद्मश्री वापस लेकर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाए। कंगना ने एक निजी न्यूज चैनल के कार्यक्रम में कहा था कि देश को आजादी भीख में मिली थी, सच्ची आजादी वर्ष 2014 में मिली है। मलिक ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम की शुरुआत 1857 से शुरू हुई थी। लाखों स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने प्राणों की आहुति दी। महात्मा गांधी ने देश की आजादी के लिए महान संघर्ष किया और अंग्रेजों ने भारत को आजाद करने की घोषणा की तथा 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ। मलिक ने कंगना को फटकार लगाते हुए कहा कि इतने बलिदान के बावजूद कंगना रनौत ओवरडोस सरीखा क्यों बोल रही है।    

पीएम, भाजपा अध्यक्ष बयान दें: राऊत

इधर शिवसेना सांसद संजय राऊत ने कंगना रनौत के बयान पर सवाल किया कि फांसी पर चढ़ने वाले सभी क्रांतिकारियों को भीख मांगकर आजादी मिली? इस संबंध में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रधानमंत्री को अपने विचार व्यक्त करने चाहिए। पिछले 75 साल में देश की आजादी में शामिल हुए स्वतंत्रता सेनानियों को भारत रत्न, पद्मश्री, पद्म भूषण जैसे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। यही सम्मान कंगना रनौत को दिया गया, यह स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान है। राऊत ने कहा कि कंगना को जो भी राष्ट्रीय पुरस्कार मिले हैं, वे सभी वापस ले लेना चाहिए। अन्यथा भाजपा को आजादी का अमृत महोत्सव मनाने का अधिकार नहीं है।

वापस लिया जाए पद्मश्री पुरस्कार: तारिक अनवर

कांग्रेस के राष्ट्रीय महसचिव​ तारिक अनवर ने मुंबई में कहा कि कंगना रनौत के बयान से पूरे देश का अपमान हुआ है। उनके अपमानजनक बयान का कांग्रेस विरोध करती है। उनके बयान के बाद केंद्र सरकार को उनका पद्मश्री पुरस्कार वापस लेना चाहिए।

देश कभी माफ नहीं करेगा: भाई जगताप

मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भाई जगताप ने कहा कि देश कभी भी कंगना रनौत को माफ नहीं करेगा। उन्होंने देश के तमाम महान स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है। आने वाले समय में मुंबई कांग्रेस की तरफ से उन्हें सबक सिखाया जाएगा। केंद्र की भाजपा सरकार की तरफ से उन्हें दिया गया पद्मश्री पुरस्कार वापस लिया जाए और उन पर देशद्रोह का गुनाह दाखिल किया जाए।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget