महालक्ष्मी मंदिर में दिवाली पर महाश्रृंगार

मुंबई

सदियों से मुंबई की कोषाध्यक्ष के रूप में पूजित महालक्ष्मी मंदिर में दीपावली पर महाश्रृंगार किया गया। माता का महाश्रृंगार कर चांदी के सिंहासन पर माता के विग्रह को स्थापित किया गया। महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती के दर्शन के लिए वैसे तो प्रत्येक दिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं लेकिन नवरात्र से लेकर दिवाली तक यहां हर दिन डेढ़ लाख तक श्रद्धालु आते हैं। इस दीपावली पर देर रात तक भक्तों का तांता लगा रहा। भक्तों की कतार हाजी अली तक लगी रही। इसके लिए मंदिर प्रबंधन ने स्थानीय पुलिस और स्वयंसेवकों की मदद से व्यापक व्यवस्था की।

गौरतलब हो कि यह स्वयंभू मंदिर है। दीवाली पर तीनों देवियों का खास श्रृंगार किया गया। तीनों देवियों को सोने चांदी के गहनों से सजाया गया था। मंदिर के पुजारी अरुण वीरकर का कहना है कि दुर्गा सप्तशती में जैसा वर्णन किया गया है, यह मंदिर वैसा ही है। देवी का मुकुट 5 किलो सोने का है। तीनों देवियों के मुख पर चांदी और तांबे का आवरण है। दीवाली पर सोने का आवरण चढ़ाया जाता है। मंदिर ट्रस्ट के वरिष्ठ प्रबंधक शरद चंद्र पाध्ये के अनुसार 1952 में मंदिर के रखरखाव के लिए ट्रस्ट बनाया गया था। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget