भारतीय वायुसेना की बढ़ेगी ताकत


नई दिल्‍ली

रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि रक्षा अधिग्रहण परिषद ने ‘मेक इन इंडिया’ श्रेणी के तहत भारतीय वायुसेना के आधुनिकीकरण और परिचालन जरूरतों के लिए 2,236 करोड़ रुपए के एक पूंजी अधिग्रहण प्रस्ताव के लिए आवश्यकता की स्वीकृति प्रदान की। साथ ही कहा कि आईएएफ का खरीद प्रस्ताव जीसैट-7सी सेटेलाइट और ग्राउंड हब के लिए सॉफ्टवेयर डिफाइंड रेडियो की रीयल-टाइम कनेक्टिविटी के लिए था। इस परियोजना में भारत में उपग्रह के पूर्ण डिजाइन, विकास और प्रक्षेपण की परिकल्पना की गई है।

सॉफ्टवेयर डिफाइंड रेडियो (एसडीआर) के लिए जीसैट -7 सी सेटेलाइट और ग्राउंड हब को शामिल करने से हमारे सशस्त्र बलों की सुरक्षित मोड में सभी परिस्थितियों में एक दूसरे के बीच एलओएस से परे संचार करने की क्षमता में वृद्धि होगी। इसी महीने रक्षा मंत्रालय ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से 12 हेलीकॉप्टर समेत 7,965 करोड़ रुपए के हथियारों और सैन्य उपकरणों की खरीद को मंजूरी दी थी। मंत्रालय की निर्णय लेने वाली सर्वोच्च संस्था रक्षा अधिग्रहण परिषद की बैठक में खरीद प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि डीएसी ने 12 लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर खरीदने के प्रस्ताव के अलावा भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड से लिंक्स यू2 नेवल गनफायर कंट्रोल सिस्टम की खरीद को भी मंजूरी दी, जो नौसेना के युद्धपोतों की निगरानी और संचालन क्षमताओं को बढ़ाएगा।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget