छठ पूजा की गाइडलाइंस में बदलाव

उत्तर भारतीयों के सामने झुकी मनपा  । अर्ध्य देने के लिए मनपा बनाएगी कृत्रिम तालाब

BMC

मुंबई 

बिहार और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र में मनाए जाने वाले सूर्योपासना के पर्व छठ पूजा को लेकर मनपा प्रशासन ने अपनी गाइडलाइन में बदलाव किया है। सोमवार को मनपा प्रशासन ने अपनी नई गाइडलाइन जारी करते हुए छठ पूजा मनाने के लिए  खुद कृत्रिम तालाब बनाने और त्योहार बीतने के बाद खुद ही भरने का निर्णय लिया है। इसके पहले मनपा ने समाजसेवी संस्थाओं को स्वयं कृत्रिम तालाब बनाने और उसे भरने का खर्च देने का निर्देश दिया था। मनपा के इस निर्णय का भारी विरोध हो रहा था। भाजपा और कांग्रेस के नेताओं ने मनपा के निर्णय का विरोध किया था। सोमवार को मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भाई जगताप ने उत्तर भारतीयों के साथ मनपा के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी और अश्विनी भिड़े से मिलकर मनपा की गाइडलाइन में बदलाव करने की मांग की थी।

बता दें कि 10 नवंबर को होने वाली छठ पूजा को लेकर मनपा की गाइडलाइन में कोरोना को देखते हुए समुद्र में होने वाली पूजा अर्चना पर रोक लगाई थी। मनपा के इस निर्णय का विरोध हो रहा था। समुद्री तटों पर कोरोना के कारण लगाई गई रोक पर नाराजगी नहीं थी लेकिन कृत्रिम तालाबों के निर्माण स्वयं खर्च से बनाने और उसे भरने के निर्देश पर नाराजगी थी। मनपा के इस निर्णय का भाजपा प्रदेश उत्तर भारतीय मोर्चा अध्यक्ष संजय पांडे ने भी विरोध किया था। सोमवार को मुंबई कांग्रेस के कार्याध्यक्ष चरण सिंह सप्रा, सूरज सिंह ठाकुर आदि ने मनपा अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी से मिलकर गाइडलाइन में बदलाव करने की मांग रखी। मनपा अब कृत्रिम तालाब के निर्माण से लेकर उसे नष्ट करने आदि का खर्च स्वयं वहन करेगी। मनपा ने तालाब के पास भीड़ न हो इसके लिए 200 लोगों को इकठ्ठा होने की अनुमति दी है। जबकि निजी स्थानों पर पूजा अर्चना करने के लिए 100 लोगों को इकट्ठा होने की छूट दी है। पूजा स्थल पर जमा होने वाले लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लेना अनिवार्य किया है। जिस स्थान पर छठ पूजा का आयोजन होगा वहां थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य किया है। इसके अलावा सेनेटाइजेशन करना अनिवार्य किया है। साथ ही तालाब के पास हार फूल के लिए निर्माल्य कलस लगाना अनिवार्य किया है। 

ध्वनि प्रदूषण न हो इसके लिए विशेष सावधानी बरतने को कहा गया है। पूजा स्थल पर सभी को मास्क लगाना अनिवार्य किया गया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget