एसटी के साथ अब निजी बसें भी बंद

सरकार के रवैये से बढ़ रही नाराजगी 


पुणे

एसटी कर्मचारियों की हड़ताल के चलते परिवहन निगम की बसें बंद हैं। एसटी के हड़ताली कर्मियों द्वारा निजी बसों में तोड़फोड़ करने से नाराज अब पुणे में निजी बसें भी बंद रहेंगी। पुणे बस एसोसिएशन ने यह निर्णय इसलिए लिया है क्योंकि सरकार से उन्हें उचित समर्थन नहीं मिल रहा है। आरोप है कि परिवहन मंत्री द्वारा किया गया वादा पूरा नहीं किया गया है। कोल्हापुर में निजी बसों के शीशे तोड़ दिए गए, चालक को भी पीटा गया। पुणे से भरी बसें खाली लौटीं। बस एसोसिएशन ने इन्हीं कारणों से यह फैसला लिया है। बस संघ के अध्यक्ष बाबा शिंदे ने कहा कि हम परिवहन मंत्री के साथ चर्चा करेंगे। अगर निजी बसों को इस तरह से क्षतिग्रस्त किया जाता है, तो हम बसों को रोक देंगे। उन्होंने हड़ताल के लिए अपना समर्थन भी व्यक्त किया। शिंदे ने आगे कहा कि हमने कल अपनी 2000 बसें चलाई थीं लेकिन स्थानीय प्रशासन द्वारा मदद नहीं करने पर अस्सी प्रतिशत बसें खाली लौट गईं। चालक को भी पीटा गया और बस का शीशा तोड़ दिया गया। इसलिए बस एसोसिएशन ने फैसला किया है कि जब तक परिवहन मंत्री सुरक्षा की गारंटी नहीं देते तब तक हम बस नहीं चलाएंगे। लोगों को असुविधा न हो, इसलिए राज्य के अन्य शहरों में बसें चलती रहेंगी।

एसटी हड़ताल का साइड इफेक्ट : ग्रामीण यातायात बाधित  

नाशिक। एसटी कर्मचारियों की हड़ताल का असर अब ग्रामीण क्षेत्र पर होने लगा है। इससे ग्रामीण क्षेत्र का जनजीवन अस्त-व्यस्त होता नजर आ रहा है। जिले के मनमाड बस डिपो में कर्मचारियों ने आंदोलन करते हुए राज्य सरकार का विरोध किया। राज्य परिवहन महामंडल के कर्मचारी विभिन्न मांगों को लेकर पिछले 5 दिनों से हड़ताल पर हैं। इससे शहरी क्षेत्र के साथ अब ग्रामीण क्षेत्र का भी यातायात बाधित हो रहा है। 

गौरतलब हो कि लगातार पांच दिनों से जारी हड़ताल के चलते ग्रामीण क्षेत्र से लोगों को शहर आने में दिक्कत हो रही है। किसान अपनी फसल के लिए लगने वाले खाद, बीज, कृषि उपकरण आदि के लिए शहर नहीं आ पा रहे हैं। मरीजों को भी मजबूरन गांवों के डॉक्टरों से इलाज कराना पड़ रहा है। मनमाड डिपो के कर्मचारियों ने गुरुवार को बस डिपो के सामने आंदोलन करते हुए राज्य सरकार का विरोध किया। जब तक राज्य सरकार की सेवा में परिवहन मंडल के कर्मचारियों को शामिल नहीं किया जाता है तब तक हड़ताल जारी रखने का निर्णय लिया गया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget