CRPF जवान धर्मेंद्र को दी गई अंतिम विदाई

चार साल के बेटे ने दी मुखाग्नि  बहनों से पूछता रहा- पापा कहां चले गए?

रोहतास 

छतीसगढ़ के सुकमा में अपने साथी की फायरिंग में मारे गए CRPF जवान धर्मेंद्र सिंह का अंतिम संस्कार बुधवार को गरुड़ा ग्राम में सैन्य सम्मान से किया गया। जब उनके चार साल के बेटे सिटू कुमार ने मुखाग्नि दी तो हजारों आंखें नम हो गईं। जवान की पत्नी सुनीता देवी की चीत्कार और तीन मासूम बच्चों की रोती आंखों को देखकर हर कोई गमगीन हो गया। वृद्ध पिता राम बचन सिंह के आंसू रुक नहीं रहे थे, उनके तीन बेटे उन्हें ढांढ़स बंधाने का असफल प्रयास कर रहे थे। दिवंगत धर्मेन्द्र सिंह का चार साल का बेटा सिटू कुमार अपनी बहनों रूबी (10 साल) और रिया (8 साल) से बार-बार पूछ रहा था कि पापा कहां चले गए, परंतु कोई जवाब नहीं दे पा रहा था।

छठ पर हो रहा था इंतजार, आई मनहूस खबर

दाह संस्कार के पूर्व CRPF 47 बटालियन के विजेंद्र सिंह भाटी की अगुआई में धर्मेंद्र को अंतिम सलामी दी गई। तब तीनों बच्चों के हाथ पापा को अंतिम सलामी देने के लिए उठ गए। धर्मेन्द्र सिंह अमर रहे रहें, जब तक सूरज-चांद रहेगा, धर्मेन्द्र सिंह का नाम रहेगा, भारत माता की जय के नारे के बीच उन्हें अंतिम विदाई दी गई।

रविवार देर रात सुकमा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स के जवान ने अपने साथियों पर AK-47 से फायरिंग कर दी थी। घटना में 4 जवानों की मौत हो गई थी। इनमें रोहतास जिले के संझौली थाना अंतर्गत गरुड़ा ग्राम के निवासी राम वचन सिंह के पुत्र धर्मेंद्र सिंह भी शामिल थे।

मंगलवार देर रात पैतृक गांव पहुंचा शव

इसके पूर्व मृत जवान का शव मंगलवार देर रात गरुड़ा गांव पहुंचा। उनके दर्शन के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा। जवान का शव दोपहर में पटना एयरपोर्ट पर लाया गया। जहां से मुजफ्फरपुर के CRPF कैंट के जवान शव गाड़ी के साथ देर रात यहां पहुंचे।

बिक्रमगंज संझौली सीमा के सोनी ग्राम से हजारों लोगों ने जवान के पार्थिव शरीर को रिसीव किया। देर रात ही काराकाट विधायक अरुण सिंह, संझौली BDO सरफराजुद्दीन, CO विनय शंकर, थानाध्यक्ष शंभू कुमार सहित प्रखंड के सभी पंचायत प्रतिनिधि व गणमान्य लोगों ने पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित की।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget