LAC पर शांति बनाने को राजी चीन


नई दिल्ली

भारत और चीन दोनों ही देश सीमा पर हालात को सामान्य रखने और शांति बनाए रखने तथा किसी भी प्रकार की अनचाही घटना को रोकने पर राजी हुए हैं। विदेश मंत्रालय ने बताया है कि दोनों देशों के बीच 14वें दौर की सीनियर कमांडर लेवल के बीच मीटिंग आने वाले कुछ ही दिनों में होगी। विदेश मंत्रालय के मुताबिक सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए दोनों देश एलएसी के पास ईस्टर्न लद्दाख में विवाद के अन्य मुद्दे का हल जल्द से जल्द तलाशने पर राजी हुए हैं। दोनों देश द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल्स के जरिए इन विवादित मुद्दों को सुलझाना चाहते हैं, ताकि शांति व्यवस्था बनी रहे। विदेश मंत्रालय ने भारत-चीन राजनयिक वार्ता के बारे में कहा कि दोनों देशों ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर लंबित मुद्दों के जल्द समाधान की जरूरत पर दोनों पक्षों ने सहमति जताई है। दोनों पक्षों ने पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा के हालात पर विस्तृत और स्पष्ट तरीके से बातचीत की है। गुरुवार को भारत-चीन सीमा मामलों  पर परामर्श और समन्वय के लिए कार्य तंत्र के तहत वार्ता हुई है। व्यापक-आधारित WMCC का नेतृत्व वरिष्ठ राजनयिक नवीन श्रीवास्तव करते हैं और इसमें सेना के अधिकारी, भारत तिब्बत सीमा पुलिस और रक्षा और गृह मंत्रालय शामिल होते हैं। इस बैठक में चीन का भी समान रूप से व्यापक-आधारित प्रतिनिधित्व हिस्सा लेता है। याद दिला दें कि इससे पहले दुशांबे में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने भी एक बैठक की थी, जिसमें यह तय हुआ था कि दोनों पक्षों को बाकी बचे मुद्दों को जल्द से जल्द हल करना चाहिए। भारतीय पक्ष ने इस बात पर भी जोर दिया था कि बाकी इलाकों के भी ऐसे ही समाधान से द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति को आसान बनाया जा सकेगा।

अरुणाचल में चीनी कब्जा

विस्तारवादी चीन ने फिर भारतीय सीमा से सटे इलाकों में कब्जा करना शुरू कर दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक नई सेटेलाइट इमेज से अरुणाचल प्रदेश में चीन के एक और इन्क्लेव बनाने का खुलासा हुआ है। इसमें करीब 60 इमारतें होने का अनुमान लगाया जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक 2019 तक इस इलाके में एक भी एन्क्लेव नहीं था, लेकिन एक साल बाद ही चीन ने कब्जा कर निर्माण कर दिया। कुछ दिन पहले भी अरुणाचल के एक हिस्से में चीनी सेना के कब्जे की जानकारी सामने आई थी। रिपोर्ट के मुताबिक नई इमारतें पुराने कब्जे से 93 किलोमीटर दूर हैं। रिपोर्ट के मुताबिक नया एन्क्लेव भारतीय सीमा के 6 किलोमीटर अंदर है। यह इलाका अंतरराष्ट्रीय सीमा और वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के बीच है। भारत हमेशा इस इलाके के भारतीय सीमा में होने का दावा करता आया है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget