ड्रग्स के खिलाफ मुंबई NCB की बड़ी कार्रवाई

नांदेड़ में 1.1 टन गांजा पकड़ाया, जलगांव में भी 1500 किलो गांजा जब्त


मुंबई 

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की मुंबई टीम ने महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले से 1.1 टन गांजा पकड़ा है।  पकड़े गए गांजे की कीमत चार करोड़ के करीब है। गांजे की यह खेप आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से मुंबई आ रही थी। सप्लायर और रिसीवर की पहचान की जा रही है। दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। दोनों आरोपी आंध्रप्रदेश के रहने वाले हैं। एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने मीडिया को यह जानकारी दी है। नांदेड़ के नायगाव तालुका में मौजे मांजरम के पास इसे अवैध तरीके से ले जाते हुए पकड़ा गया। एक दूसरी कार्रवाई में एनसीबी ने महाराष्ट्र के ही जलगांव से 1500 किलो का गांजा बरामद किया है। यह एक ट्रक में भर कर ले जाया जा रहा था। जलगांव के एरंडोल में यह जब्त किया गया है। गांजा आंध्रप्रदेश से महाराष्ट्र लाया जा रहा था। गांजे की ये खेप ना सिर्फ आंध्र प्रदेश से महाराष्ट्र लाई जा रही थी, बल्कि इसे अन्य राज्यों में भी भेजे जाने की योजना थी।

 जलगांव में ऐसे पकड़ा गया 1500 किलो गांजा

मुंबई एनसीबी ने सुबह जलगाव जिले के एंरडोल में भी ऐसी ही एक कार्रवाई में 1500 किलो का गांजा बरामद किया। यहां भी एनसीबी को टिप मिली थी कि एक ट्रक में अवैध तरीके से गांजा ले जाया जा रहा है। एनसीबी ने ट्रक को रोक कर तलाशी ली तो करीब 1500 किलो गांजा बरामद हुआ। यह आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम से महाराष्ट्र लाया जा रहा था। गौर करने वाली बात यह है कि नांदेड़ में जब्त किया हुआ गांजा भी विशाखापट्टनम से ही लाया जा रहा था। गांजे की खेप को ना सिर्फ महाराष्ट्र में खपाने की योजना थी, बल्कि इसकी सप्लाई अन्य राज्यों में भी की जानी थी। फिलहाल एनसीबी द्वारा इस मामले में आगे की कार्रवाई शुरू है।

SIT टीम ने छोड़े तीन केस

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम ने मादक पदार्थों से जुड़े छह में से चीन केस छोड़ने का निर्णय लिया है। अब SIT सिर्फ क्रूज ड्रग्स केस, नवाब मलिक के दामाद समीर खान का ड्रग्स मामला और अभिनेता अरमान कोहली के केस की जांच करेगी।

NCB के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पत्रकारों को बताया, 'SIT अब केवल इन तीन मामलों की जांच करेगी। जबकि शुरू में छह मामले SIT को हस्तांतरित किए गए थे, यह पता चला कि शेष तीन मामलों में कोई विदेशी संबंध मौजूद नहीं थे और उन्हें NCB जांच से हटा दिया गया था। जिन तीन मामलों को छोड़ दिया गया, उनमें आरोपियों में कोई जाना-पहचाना व्यक्ति नहीं था। तीनों मुंब्रा, जोगेश्वरी और नागपाड़ा में छोटी नशीली दवाओं की बरामदगी से संबंधित मामले मुंबई में दर्ज किए गए थे।'


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget