T-20 वर्ल्ड कप से बाहर होना ‘कड़वा घूंट पीने की तरह' : मार्क

mark boucher

शारजाह

दक्षिण अफ्रीका के मुख्य कोच मार्क बाउचर ने कहा है कि खराब नेट रन रेट के कारण टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल से बाहर होना कड़वा घूंट पीने की तरह है। टूर्नामेंट में प्रदर्शन के आधार पर दक्षिण अफ्रीका सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई करने का प्रबल दावेदार था, लेकिन अपने पांच में से चार मुकाबले जीतने के बावजूद टीम शीर्ष चार में जगह नहीं बना सकी। अपने अंतिम ग्रुप मैच में दक्षिण अफ्रीका ने इंग्लैंड को 10 रन से हराया, लेकिन यह टीम को सेमीफाइनल में जगह दिलाने के लिए काफी नहीं था। इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के भी आठ-आठ अंक थे लेकिन ये दोनों टीमें बेहतर नेट रन रेट के कारण सेमीफाइनल में जगह बनाने में सफल रहीं।

बाउचर ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा ​िक यह सफल नहीं रहा, क्योंकि आप विश्व कप से बाहर हो गए। यह कड़वा घूंट पीने की तरह है। उन्होंने कहा ​िक मुझे लगता है कि पूरे टूर्नामेंट के दौरान हमने काफी अच्छा क्रिकेट खेला, पहला मैच गंवाने के बाद हमने काफी दबाव में क्रिकेट खेला।

टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीका को क्वालीफाई करने के लिए इंग्लैंड को 130 रन से कम के स्कोर पर रोकना था, लेकिन टीम ऐसा करने में नाकाम रही। बाउचर ने कहा ​िक ड्रेसिंग रूम में मौजूद खिलाड़ियों के लिए यह कड़ा समय है। हमें आज पता था कि हमें क्या करना है लेकिन हमारे लिए समीकरण काफी मुश्किल थे। उन्होंने कहा ​िक मैंने खिलाड़ियों से कहा कि सिर्फ उन्हीं चीजों को नियंत्रित करने का प्रयास कीजिए जिसे हम नियंत्रित कर सकते हैं। दुर्भाग्य से हम अन्य नतीजों को नियंत्रित नहीं कर सकते। हमने आज अच्छा काम किया, लेकिन इसे हजम करना आसान नहीं है। बाउचर को मलाल है कि दक्षिण अफ्रीका की टीम आस्ट्रेलिया और बांग्लादेश के खिलाफ मौकों का फायदा उठाने में नाकाम रही। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget